Thursday, June 13, 2013

Selfishness!

why its importance so debated
its significance always misstated !

so negatively it is connoted
misdeeds it does, always inflated !


how I forget, it keeps us motivated !
never know, why it is so desecrated

O Selfishness! you are so underrated !
I wish to have you more without being belated ! 

Tuesday, January 8, 2013

Fundamental Limits....

यूँ- ही पृथ्वी-सूरज-चाँद-तारो का रहस्य पता न होता 
Newton ने गर law of gravitation न दिया होता । 

यूँ-ही भविष्य-वाचन के फेर में ऐसे ही विशवास करता
Poincare ने गर Chaos को न discover किया होता । 

यूँ-ही खुद को complete समझने के भ्रम में ऐसे ही रहता
Godel ने गर Incompleteness theorem न दिया होता । 

यूँ-ही खुद को सबसे बड़ा समझने की भूल ही करता
Cantor ने गर infinity का concept न दिया होता ।

यूँ-ही दो से चार की जुगत में ऐसे ही रहता
2nd law ने गर इतना परेशां न किया होता ।

(2nd law=2nd law of thermodynamics)

शीत-ऋतु

न खिलती है धूप यहाँ 
न खिलती हैं उमंग भी

सो गया है सूरज यहाँ 
सो गयी मन-तरंग भी 

चुप हैं पशु-पक्षी यहाँ 
चुप हैं हर-कोई भी 

जम चुके हैं नदी-नहर यहाँ
जम चुके हैं विचार भी

काँपता है ये बदन यहाँ
कांपती ये लेखनी भी

अलसाई ये आँखें यहाँ
अलसाये ये शब्द भी

जल रहे अलाव यहाँ
जल रहीं आशाएँ भी

एक तरफ शीत-ऋतु यहाँ
एक तरफ शीत-चेतना भी ।

लुट गए हम तो !

दरिया में कूद कर-डूब कर मर जाते, गम न था 
किनारे खड़े-खड़े, गहराई से डर के, लुट गए हम तो ।

दुखो में भी इतने दुखी न थे हम तो 
बीते सुखो की सोच में लुट गए हम तो ।

खोकर आजतक कुछ भी न खोया हमने 
झूठी आस लगा के लुट गए हम तो |

Saturday, December 8, 2012

बोतल !

तू पिला मुझे खुल के कभी 
जानने को मुझे बोतल एक काफी है ।

यूँ तो तेरे मेरे बीच फासले काफी हैं 
कम करने को पर बोतल एक काफी है ।

यूँ तो शिकायतें हैं मुझे तुझसे आज बहुत
शिकायत न करने को पर बोतल एक काफी है ।

तेरे प्यार में खुमार अब वो कहाँ
खुमार को अब बोतल एक काफी है ।

अब तेरी जरूरत है इधर किसे
जीने को जब एक बोतल काफी है ।

Friday, November 23, 2012

नाम हो, या हो बदनाम !

गांधी बनो या बनो गोडसे
हो शहीद या म्रत्युदंड तुम पायो
सूर्य जितना तेज दिखायो
या चाँद के जैसे शीतल हो जायो
फूल बनकर गर महक सको न
काँटा बन शत्रु पे गिर जायो
अमृत गर मिल सके न
शिव के जैसे विष पी जायो
सदियां याद रखें तुझको बस
प्रख्याति हो तेरे जस
फिर नाम हो, या हो बदनाम 
करो जायो कुछ ऐसा काम ।

Sunday, November 18, 2012

हे प्रभु !

हे प्रभु ! आप यह किस संकट में छोड़ गए 

धर्म की हानी होने पर प्रकट होने का 
झूठा वादा करके, आप तो मुंह ही मोड़ गए |

कर्म कर और फल की इच्छा मत कर
ऐसा कह के, मेरे जीने की आस क्यूँ तोड़ गए |

सोमवार

वार ने सिर्फ किया हम पर अत्याचार है 
वार का हम पर हम से ज्यादा अधिकार है 
वार के आगे लगता, ये जीवन तो धिक्कार है 
वार ऐसा, जो करता हर सप्ताह हम पर वार है 
मानवजाति पर किया गया वो सबसे बड़ा वार है 
वार वो कोई और नहीं अपना सोमवार है ।

Saturday, November 17, 2012

समझ में तो आया !

अच्छा हुआ, तुझे छोड़ के मैं दूर इतना चला आया
चार दीवारें नहीं, वो घर था, समझ में तो आया ।

अच्छा हुआ, धन के लिए, मैं सबसे मुंह मोड़ आया
धन तो वही चार लोग हैं, समझ में तो आया ।

अच्छा हुआ, दुनिया समझने के लिए, मैं तेरा हाथ छोड़ आया
पर तू ही तो दुनिया है माँ, समझ में तो आया ।

Friday, November 16, 2012

मास्टरजी

मास्टरजी ने कर रखी है रातो की नीद भंग |
गिरते सफ़ेद बालो को देख, हो जाते हैं हम दंग |
मोटापा और चेहरे की झुरियां करती हैं बड़ा तंग |
बढती उम्र और शादी की टेंशन ने कर दिया है हमें बिलकुल अपंग |
और इन सब की वजह से कट गयी है
हमारे आनंदों की पतंग |

इसलिए, ऐसी जिंदगी से आ गए हैं हम तंग |
रह गयी है जिंदगी में न अब कोई तरंग |
है अब सिर्फ एक ही उमंग |
की बना सके हमें कोई दबंग |